hindi vyakaran I सम्पूर्ण व्याकरण हिंदी में

vyakaran hindi I basic hindi grammar I hindi grammar in hindi I hindi grammar

संज्ञा (sangya) किसे कहते है? उदाहारण , प्रकार

Table of Contents

किसी भी व्यक्ति वस्तु , स्थान या भाव के नाम को संज्ञा कहते हैं। संज्ञा को अंग्रजी में Noun कहा जाता है।

संज्ञा के प्रकार (type of sangya ) hindi vyakaran

संज्ञा को पांच भागों में बांटा गया है।_

• जातिवाचक संज्ञा
• व्यक्तिवाचक संज्ञा
• भाववाचक संज्ञा
• समूहवाचक संज्ञा
• द्रव्यवाचक संज्ञा read more

सर्वनाम की परिभाषा , प्रकार , उदाहरण

संज्ञा के स्थान पर या संज्ञा के बदले प्रयोग किए जाने वाले शब्द को सर्वनाम कहते है। सर्वनाम का अर्थ है सर्व = सब और नाम = नाम , यानी सब का नाम । जैसे दोस्तो किसी के एक नाम से सिर्फ एक व्यक्ति का बोध होता है। यानी मोहन नाम से सिर्फ मोहन नाम के लड़के का बोध होता है। लेकिन मोहन , सोहन , मीरा ये सभी स्वयं के लिए मैं शब्द का प्रयोग करते हैं और मैं शब्द सब के नाम के स्थान पर प्रयोग किया जाता है। अतः हम कह सकते है की संज्ञा के स्थान पर प्रयोग किए जाने वाले शब्द को सर्वनाम कहते है।

सर्वनाम छः प्रकार के होते हैं।

• पुरुषवाचक सर्वनाम मैं , तू
• निश्चयवाचक सर्वनाम यह , वह
• अनिश्चय वाचक सर्वनाम कोई , कुछ
• निजवाचक सर्वनाम आप
• प्रश्नवाचक सर्वनाम कौन , क्या
• संबंधवाचक सर्वनाम जो , सो read more

क्रिया किसे कहते हैं? , प्रकार ,उदाहरण

किसी वाक्य में काम के होने या करने को क्रिया कहते है। क्रिया ही किसी वाक्य को पूर्ण बनाती है। अतः किसी काम का होना या करना समझा जाय , क्रिया कहलाती है। hindi vyakaran

क्रिया मुखतः पांच प्रकार के होते हैं।

• सकर्मक क्रिया
• अकर्मक क्रिया
• पूर्ण कालीन क्रिया
• संयुक्त क्रिया
• नामधातु क्रिया read more

कारक की परिभाषा , प्रकार , उदाहरण

संज्ञा या सर्वनाम शब्द की वह अवस्था जो क्रिया की उत्पत्ति में सहायक होता हो या जो किसी शब्द का क्रिया से संबंध बढ़ाए , कारक कहलाता है।

हिंदी भाषा में कारकों की संख्या आठ होती है।

कारक परसर्ग
• कर्ता कारक ने ( से, को , द्वारा)
• कर्म कारक को
• करण कारक से , द्वारा ( साधन या माध्यम)
• सम्प्रदान कारक को , के लिए
• अपादान कारक से ( अलग होने का बोध)
• संबंध कारक का,के, की , ना,ने, नी, रा, रे, री
• अधिकरण कारक में , पर
• सम्बोधन कारक हे, हो ,अरे , अजी read more

विशेषण किसे कहते हैं? ,प्रकार ,उदाहरण

संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताने वाले विकार को विशेषण कहते है।
उदाहरण_ hindi vyakaran
• जयपुर एक घूमने का स्थान है।
• मोहन अच्छा लड़का है।
• कश्मीर एक ठंडी जगह है।

विशेषण के चार प्रकार होते है।

• गुणवाचक विशेषण
• संख्या वाचक विशेषण
• परिमाण वाचक विशेषण
• सार्वनामिक विशेषण read more

वचन किसे कहते हैं? , प्रकार ,उदाहरण

जिस शब्द से एक या एक से अधिक वस्तु होने का बोध होता है। उसे वचन कहते है।
और
संज्ञा के जिन पदो से किसी वस्तु या व्यक्ति का एक या एक से अधिक होने का बोध होता है उसे वचन कहते हैं।

वचन दो प्रकार के होते हैं। hindi vyakaran

• एकवचन
• बहुवचन read more

उपसर्ग किसे कहते है? , नियम

उपसर्ग के उप शब्द का अर्थ है। समीप या निकट और सर्ग का अर्थ है। सृष्टि करना ।
उपसर्ग वह शब्दांश या अव्यय है, जो किसी शब्द के आरंभ में जुड़कर नए शब्द का निर्माण करते है।
जैसे_ नीचे की शब्दो में प्र शब्द जुड़ कर नए शब्द का निर्माण करते हैं। read more

प्रत्यय क्या है? ,प्रकार , उदाहरण

जो शब्दांश दूसरे शब्दों के अंत में जुड़कर अपने प्रकृति के अनुसार शब्द के अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं उसे प्रत्यय खाते हैं।

प्रत्यय मुख्य चार प्रकार के होते हैं।

• विभक्ति प्रत्यय
• स्त्री प्रत्यय
• कृत प्रत्यय
• तद्धित प्रत्यय read more

समास किसे कहते है ? , प्रकार , उदाहरण

दो या दो से अधिक शब्दों का अपने विभक्ति – चिन्हो अथवा अन्य प्रत्ययों को छोड़कर , बनने वाले शब्द को ” समास ” कहते है !
अर्थात् दो या दो से अधिक शब्दों के योग से बनने वाले शब्द को समास कहते हैं । समास का शाब्दिक का अर्थ है _ संछेप ।

समास के पूर्व पदों के रूप को समास विग्रह कहते हैं और समाज होने के बाद बने संक्षिप्त रूप को सामासिक पद या समस्त पद कहते हैं।

सामासिक पद के प्रथम पद को पूर्व पद और अंतिम पद को उत्तर पद कहते है।

समास मुख्य छः प्रकार के होते है।

• अव्ययीभाव समास
• तत्पुरुष समास
• बहुव्रीहि समास
• द्वंद समास
• कर्मधारय समास
• द्विगु समास read more

वाक्य किसे कहते है , प्रकार , उदाहरण

” दो या दो से अधिक पदो का समूह , जो पूर्णभाव को स्पष्ट करता है। , उसे वाक्य कहते है। “

” शब्दो का व्यवस्थित रूप जिससे मनुष्य अपने विचारो का आदान प्रदान करता है , उसे वाक्य कहते हैं। “

वाक्य के प्रकार

• रचना की दृष्टि से वाक्य तीन प्रकार के होते है।
• अर्थ के आधार पर वाक्य आठ प्रकार के होते है। read more hindi vyakaran

उपवाक्य किसे कहते है , प्रकार ,उदाहरण

पदो का ऐसा समूह , जो वाक्य का एक भाग हो लेकिन इन पदो से आंशिक अर्थ निकलता हो, उपवाक्य कहते है।

” पदो का ऐसा समूह , जो वाक्य का एक भाग हो , जिनसे उद्देश्य और बिधेय हो , उपवाक्य कहलाता है।

उपवाक्य के प्रकार

साधारणतः उपवाक्य दो प्रकार के होते हैं।

• मुख्य या प्रधान उपवाक्य
• आश्रित उपवाक्य read more

काल किसे कहते है।, प्रकार , उदाहरण

काल का अर्थ “समय या अवधि ” होता है। ” क्रिया के जिस रूप से उसके होने का समय और पूर्णता या अपूर्णता का बोध होता है। उसे काल कहते है।

काल तीन प्रकार के होते है। hindi vyakaran

• वर्तमान काल
• भूतकाल
• भविष्य काल read more

वर्तनी किसे कहते है विस्तार से जाने !

जिस शब्द में जितने वर्ण या अक्षर जिस अनुक्रम में प्रयुक्त होते है। उन्हें उसी क्रम में लिखना या उच्चारण करना ही वर्तनी कहलाता है। read more

भाषा किसे कहते है? भाषा के कितने रूप है ?

भाषा वह साधन है, जिसके माध्यम से व्यक्ति बोलकर , लिखकर या सांकेतिक रूप से अपने मन के विचार को किसी दूसरे व्यक्ति के समक्ष प्रकट करता है।

भाषा के कितने रूप होते हैं?

भाषा को मुख्यत: तीन रूपों में बाटा गया है। hindi vyakaran
• मौखिक भाषा
• लिखित भाषा
• संकेतिक भाषा read more

पद बंध किसे कहते है? प्रकार , उदाहरण

जब दो या अधिक पद मिलकर एक ही शाब्दिक इकाई (संज्ञा , सर्वनाम , विशेसन , क्रिया , अव्यय ) का काम करते है, तो ऐसे पद समूह को पदबंध कहते है। read more

विराम चिन्ह किसे कहते है? प्रकार , उदाहरण

जब हम लोग अपने भाव को प्रकट करते हैं तब कुछ अंश को प्रकट करने के बाद थोड़ा रुकते हैं , इसे ही विराम कहते है। और इसे स्पष्ट करने के लिए जिस चिन्ह का प्रयोग करते हैं , उसे विराम चिन्ह कहते हैं । read more

विलोम शब्द किसे कहते है ? विलोम शब्द की pdf

किसी शब्द के विपरीत अर्थ वाले शब्द को विपरितार्थक शब्द कहते है। यानी एक दूसरे के विपरीत या विरोधी अर्थ वाले शब्द को विपरितार्थक , प्रतीलोम या विलोम शब्द कहते है।

विलोम शब्द कई प्रकार से होते है । जैसे_
• लिंग के आधार पर
• रिस्तो के आधार पर
• आकार के आधार पर
• दिशा के आधार पर
• स्वभाव के आधार पर read more

पर्यायवाची किसे कहते है , pdf

पर्यायवाची शब्द एक ही शब्द का बहुरूप है , यानी जिन शब्दों का अर्थ समान हो उसे पर्यायवाची शब्द कहते है।
ये नाम विभिन्न परिस्थितियां , घटनाएं , विशेषताएं , और प्रयोग आदि के आधार पर भिन्न-भिन्न रखे जाते हैं जो एक दूसरे का प्रयाय होते हैं। read more

Leave a Comment