Upvakya I upvakya ke bhed

दोस्तों हमलोग जानेगे , उपवाक्य किसे कहते है कितने प्रकार के होते है (upvakya ke bhed) इत्यादि उदाहरण समझेंगे अगर आप उपवाक्य के बारे में जानना चाहते है , तो आप यह लेख जरूर पढ़े I हिंदी व्याकरण से जुडी जानकारी के लिए आप हमारे वेबसाइट को जरूर फॉलो करे l

उपवाक्य किसे कहते है?

पदो का ऐसा समूह , जो वाक्य का एक भाग हो लेकिन इन पदो से आंशिक अर्थ निकलता हो, उपवाक्य कहते है।

” पदो का ऐसा समूह , जो वाक्य का एक भाग हो , जिनसे उद्देश्य और बिधेय हो , उपवाक्य कहलाता है।

जैसे_
• सोहन ने मुझसे कहा था कि
• जब तक आप नही आते तब तक
• वह नौकर भाग गया upvakya ke bhed

उपवाक्य के प्रकार

साधारणतः उपवाक्य दो प्रकार के होते हैं। upvakya ke bhed

• मुख्य या प्रधान उपवाक्य
• आश्रित उपवाक्य

प्रधान उपवाक्य

जो उपवाक्य अर्थ का प्रमुख आधार सुनिश्चित करता है। और जिस उपवाक्य की क्रिया मुख्य हो , उसे मुख्य या प्रधान उपवाक्य कहते है।

आश्रित उपवाक्य

जो उपवाक्य मुख्य उपवाक्य पर आश्रित होता है। जो स्वतंत्र रूप से अर्थ का बोध नही करा सकता , उसे आश्रित उपवाक्य कहते है।

जैसे_
• मुझे विश्वास है कि आप मान जाओगे।
• मोहन ने मुझसे कहा था कि वह बहुत उदास है।
• आप यहां के मुख्या है , वह नही जानता।
• मैने उसे कहा कि उधर मत जाओ।
• जो भाषण दे रहा है। वह उसका मित्र है।

constitution of india hindi pdf download

upvakya ke bhed
upvakya ke bhed

आश्रित उपवाक्य तीन प्रकार के होते हैं।

• संज्ञा उपवाक्य
• विशेषण उपवाक्य
• क्रियाविशेषण उपवाक्य

संज्ञा उपवाक्य

वह उपवाक्य जो संज्ञा की तरह प्रयुक्त हो यानी किसी न किसी काम या नाम को इंगित करे, संज्ञा उपवाक्य कहते है। संज्ञा उपवाक्य ” की ” शब्द से जुड़ा होता है।

जैसे_
• मुझे विश्वास है की आप जरूर आएंगे।
• रहीम बोला था की मैं कल कोलकाता जा रहा हूं।
• मै जानता हूं कि वह क्या चाह रहा है।
• मेरे जीवन का लक्ष्य है कि मैं कवि बनू।
• मुझे पता है कि आप जरूर खाएं।
• मोहन ने कहा था की दिल्ली में बहुत गर्मी है।

विशेषण उपवाक्य

जब कोई उपवाक्य मुख्य वाक्य की किसी संज्ञा के विशेषण का काम करे तब उसे ” विशेषण उपवाक्य कहते है। विशेषण उपवाक्य को जो , जैसे , जितना , जब , जहा , जिसे इत्यादि शब्दो से आरंभ करते है ।

जैसे_
• वह अध्यापक था जो कल आया था।
• वह कपड़े, जो आप चाहते है , आलमारी में नही है।
• मुझे वह व्यक्ति मिला , जो बहुत पढ़ा लिखा था।
• जो व्यक्ति मेहनती होता है। उसे सभी चाहते है।
• जिसका शरीर स्वस्थ नही है , उसका जीवन व्यर्थ है।
• जो मेहनती होता है।, वह हमेशा सफल होता है।
• वह व्यक्ति मर गया।, जो कल हस्पताल में था। upvakya ke bhed

क्रियाविशेषण उपवाक्य

जो उपवाक्य , प्रधान उपवाक्य की क्रिया के बारे में कुछ बताए, यानी उसके काल , स्थान , रीति , परिणाम , परिमाण बताए, उसे क्रियाविशेषण उपवाक्य कहते है। क्रियाविशेषण उपवाक्यो को जब , जहा , जिधर , यदि , यद्धपी , की आदि शब्दो से आरंभ होता है।

जैसे_
• ज्योही मै स्कूल पहुंचा, त्योही घंटी लग चुकी थी।
• मैने वैसे ही किया ,जैसे आपने बताया था।
• यदि मै पढ़ा होता ,तो अवश्य बताता।
• जहा जहा वह गया , उसका बहुत सम्मान हुआ।
• जहा तक दृष्टि जाति है, वहा अंधेरा ही अंधेरा है।
• ज्योहि ही घंटी बजी, बच्चे दौड़ने लगे।
• जब मैं स्टेशन पहुंचा , रेल जा चुकी थी।
• यदि मै दौड़ा होता , तो अवश्य ही सफल होता।
• मै वही जा रहा हूं , जहा तुम जा रहे हो।

उपवाक्य किसे कहते है ?

” पदो का ऐसा समूह , जो वाक्य का एक भाग हो , जिनसे उद्देश्य और बिधेय हो , उपवाक्य कहलाता है।

उपवाक्य कितने प्रकार के होते है?

उपवाक्य दो प्रकार के होते है
१. मुख्य उपवाक्य
२. आश्रित उपवाक्य

संज्ञा उपवाक्य किसे कहते है ?

वह उपवाक्य जो संज्ञा की तरह प्रयुक्त हो यानी किसी न किसी काम या नाम को इंगित करे, संज्ञा उपवाक्य कहते है।

आश्रित उपवाक्य के कितने भेद है ?

आश्रित उपवाक्य के तीन भेद है

Leave a Comment